Headline

घोड़ाखाल मंदिर में लवजिहादियों की शादी का मामला, मंदिर कमेटी व पुजारियों का ध्यान सिर्फ पैसा समेटने में?

भीमताल, लवजिहाद की घटना यहां मंदिर में हुई शादी!

पिछले कुछ सालों से लव जिहाद की घटनाओं में भारी बढ़ोतरी देखने को मिल रही है इसका असर भारत में ही नहीं बल्कि पड़ोसी देश नेपाल में भी हो रही हैं।
गैर हिन्दू समुदाय के युवकों द्वारा नाबालिग लड़कियों को प्यार के जाल में फंसाकर उनका शोषण कर धर्म परिवर्तन किया जा रहा है और उन्हें अंधकारमय जीवन में धकेल दिया जा रहा है।

भीमताल की घटना

नैनीताल जिले के भीमताल में भी एक ऐसी ही घटना सामने आई है। मिली जानकारी के अनुसार नेपाल में रहने वाले मुस्लिम समुदाय के युवक ने खुद को हिंदू बनकर नेपाली हिन्दू नाबालिग लड़की को अपने प्यार के जाल में फंसाया। उससे बाद एक मंदिर में शादी कर ली, बाद में युवक नाबालिग को नेपाल से भगाकर भारत ले आया।
फिलहाल युवक को पुलिस ने पकड़ लिया गया है अब उससे पूछताछ भी की जा रही है।
बताया जा रहा है कि आरोपी युवक ने पीड़ित लड़की के साथ इंस्टाग्राम पर दोस्ती की, फिर उसे नेपाल से भारत ले आया और यहां घोड़ाखाल मंदिर में शादी रचा ली।

आपको बता दें कि नाबालिग के परिवार की शिकायत पर बिहार की 47 वीं वाहिनी सशस्त्र सीमा बल रक्सौल, दिल्ली की मिशन मुक्ति फाउंडेशन, नैनीताल की जिला बाल कल्याण समिति व उत्तराखंड पुलिस के द्वारा सर्च अभियान के बाद भीमताल के ढुंगशिल से मुस्लिम समुदाय के युवक को पकड़ लिया गया है।

खुद को हिन्दू बताकर नाबालिक नेपाल से भारत ले आया मुस्लिम युवक

मिली जानकारी के अनुसार पता चला है कि मुस्लिम युवक मोहम्मद इसराफिल अंसारी उर्फ दारा अंसारी उम्र 24 वर्ष जोकि नेपाल के परसाबीर गंज का रहने वाला है उसने 16 वर्षीय नाबालिक किशोरी से इंसटाग्राम के माध्यम से दोस्ती की तथा अपना नाम मुन्ना कुमार महतो बताया।
पिछले साल 11 दिसंबर को वह युवक नाबालिग लड़की को नेपाल से भारत ले आया, यहां पहुचने के बाद लड़की की मां के पास एक वॉट्सएप कॉल गया जिसमें फोन करने वाले ने ने कहा कि अपनी बेटी को भूल जाओ।
इसके बाद पीड़ित युवती की मां ने एसएसबी की मानव तस्करी रोधी इकाई क्षेत्रीय मुख्यालय बेतिया बिहार को इस घटना की सूचना दी।

लवजिहाद की घटनाएं।

आपको बता दें कि अपनी पहचान छुपाकर इस तरीके से शादी करना कानून का उल्लंघन होता है और इसके लिए सख्त सजा का प्रावधान भी होता है।

भारत की सुरक्षा व्यवस्था और मंदिर कमेटी कटघरे पर।

लेकिन सबसे बड़ा सवाल यही है कि तीन महीनों से एक नेपाली मुस्लिम युवक भारत में पहचान छुपाकर एक नाबालिग लड़की के साथ रह रहा था लेकिन किसी को कानों कान खबर तक नहीं लगी क्या बिना वैध दस्तावेजों के नेपाल से भारत आना इतना आसान हो गया है कि सुरक्षा एजेंसियों को इसकी भनक तक न लगे?
घोड़ाखाल मंदिर और हमारी आस्था पर इतना बड़ा कुठाराघात, क्योंकि शादी उसी मंदिर में होने का मामला मंदिर कमेटी व पूजारीयों को कटघरे पर खड़ा करती है क्या इतने पवित्र मंदिर में चंद पैसों के लिए बिना दस्तावेज और उम्र देखे लवजिहादियों की भी शादी हो जा रही है?

error: Content is protected !!