Headline

अडानी समूह है झूठ का बुलबुला? या है ये अन्तर्राष्ट्रीय साजिश।

अडानी

अडानी और हिंडनबर्ग रिसर्च

आपने कहावत सुनी होगी कि एक छोटी सी चींटी भी हाथी से तांडव करवा सकती है। ऐसा ही एक मामला आजकल बहुत सुर्खियों में है। आज हम बात कर रहे हैं भारत के प्रख्यात बिजनेसमैन गौतम अडानी की, साल 1988 में बनी गौतम अडानी की कंपनी ADANI GROUP का वर्ष 2014 तक देश के अन्य बिजनेस समूहों जैसे टाटा, बिरला, अंबानी इत्यादि के सामने कोई स्थान न था वो कंपनी साल 2014 के बाद जिस तरह से दिन दुगनी रात चौगुनी तरक्की के साथ सभी को पछाड़कर एशिया की सबसे बड़ी कंपनी बन जाती है।  

भारत के प्रख्यात बिजनेसमैन गौतम अडानी

पिछले 8 सालों में अडानी की संपत्ति में जो उछाल आता है वह सभी को हैरान कर देता है, आपको बता दें कि साल 2022 में 121 बीलियन डालर की संपत्ति के साथ ADANI दुनिया कै तीसरी सबसे अमीर आदमी का खिताब अपने नाम करने में सफल हो जाते हैं

लेकिन साल 2023 की शुरुआत में अमेरिका की एक शोध कंपनी हिंडनबर्ग रिसर्च की मात्र एक रिपोर्ट से तीसरे पायदान से सीधे 25वें पायदान पर खिसक गए, वर्तमान में ADANI की कुल संपत्ति 121 बीलियन डालर से घटकर 49.1 बीलियन हो गई है।

हिंडनबर्ग रिसर्च की मात्र एक रिपोर्ट से शेयरों में लगातार गिरावट जारी

हिंडनवर्ग रिसर्च एक ऐसी कंपनी जोकि 2017 में बनी है उसकी एक रिपोर्ट ने 35 साल पुराने अडानी समूह के शेयरों को औधे मुह गिरने पर विवश कर दिया। 

गौतम अडानी दुनिया की सबसे अमीरों की लिस्ट में तीसरे स्थान से खिसके 25वे स्थान पर

इसे समय की मार कह लें या फिर झूठ के बुलबुले का फटना कह लें उससे कोई फर्क नहीं पड़ने वाला क्योंकि पिछले 8 सालों की कमाई महज एक महीने में गवाने वाले अडानी पर हिंडनबर्ग रिसर्च ने आरोप लगाए हैं कि अडानी ने अपने शेयरों के दाम बढाने तथा बैंकों से लोन लेने के लिए फर्जी कंपनियों और दस्तावेजों का सहारा लिया।

जबकि अडानी की तरफ से स्पष्टीकरण देते हुआ बोला गया है कि ये रिपोर्ट ही फर्जी है, हिंडनबर्ग रिसर्च के आरोप झूठे हैं या सही इस बात के लिए कुछ समय का इंतजार और करना होगा क्योंकि ये मामला कार्ट में चल रहा है

लेकिन इस रिपोर्ट की वजह से अडानी समूह को भारी नुकसान झेलना पड़ रहा है क्योंकि दिसंबर 2022 में अडानी समूह के जिन शेयरों का मुल्य 4189.55 रूपये था वो फरवरी 2023 में हिंडनबर्ग रिसर्च की रिपोर्ट आने के महज 10 दिनों में 70 फीसदी गिरकर 1017.10 रूपये के भाव पर आ गया।

अडानी समूह पर हिंडनबर्ग रिसर्च ने लगाए गंभीर आरोप

जबकि इस मामले में कई लोगों का कहना है कि  शॉर्ट सेलिंग वाली कंपनी हिंडनबर्ग रिसर्च को ADANI GROUP पर रिसर्च करने तथा उनके शेयरों को गिराने के लिए बहुत मोटी रकम मिली होगी

HINDENBURG KI REPORT

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!