Headline

सोमेश्वर घाटी का वो शिवलिंग जिस पर चली थी आक्रमणकारियों की तलवार

सोमेश्वर घाटी का ऐतिहासिक शिवलिंग

भगवान शिव को समर्पित सोमेश्वर के सोमनाथ महादेव मंदिर के बारे में जानने के लिए हम मंदिर परिसर में गए और वहां आधे कटे हुए शिवलिंग को देखकर मन में कई सवाल खड़े हो गए कि आखिर यहां खंडित शिवलिंग आखिर क्यों रखा है, इन्हीं सवालों के जवाब ढूंढने की कवायत में वहीं के स्थानीय लोगों से पूछताछ की तो पता चला कि जब मुस्लिम आक्रमणकारी महमूद गजनबी , अलाउदीन खिलजी , औरंगजेब ने पूरे देश के सोमनाथ मंदिरों पर आक्रमण करवा रहा थे तथा मूर्तियों को खंडित कर रहे थे उसी दौरान उसके सैनिक सोमेश्वर घाटी के सोमनाथ महादेव मंदिर में भी आए तथा यहां स्थित प्रसिद्ध बाड़ेश्वर महादेव के शिवलिंग ( जिसमें 33 कोटी देवताओं के चित्र बने हुए हैं ) के एक हिस्से को काटकर अपने साथ ले गए जबकि दूसरा हिस्सा आज भी मंदिर में मौजूद है तथा लोग उसकी पूजा करते हैं।

(सोमनाथ महादेव मंदिर, सोमेश्वर जिला – अल्मोड़ा ) वीडियो लिंक – https://youtu.be/WNcsEmzskRs

निर्माण

सोमनाथ महादेव जी के मुख्य मंदिर के साथ लगा हुआ यह मंदिर बाड़ेश्वर मंदिर कहलाता है तथा इसके साथ भैरवनाथ जी और क्षेत्रपाल जी का मंदिर भी है ये सभी मंदिर 10वीं से 12वीं सताब्दी के आसपास चंद वंश के राजा सोम चंद द्वारा बनवाए गए थे, यहाँ के मंदिरों की बनावट में उस दौर की शानदार शिल्पकला को महशूस किया जा सकता है

आपको बता दें कि वर्तमान में यह मंदिर पुरातत्व विभाग के संरक्षण में है

भक्ति

शिवरात्रि और सावन के महीने में यहां देश भर से आए भक्तों का तांता लगा रहता है जबकि स्थानीय लोग यहां प्रतिदिन पूजा-अर्चना करते है, हम आशा करते हैं कि पुरातत्व विभाग ऐसे ऐतिहासिक देवस्थलों को संरक्षण देते रहेंगे भक्ति

अगर ये जानकारी आपको सही लगी है तो अपने साथियों के साथ शेयर जरूर करें …

ये जानकारी स्थानीय लोगों के द्वारा बताई गयी है जिसका वर्णन हमने हूबहू किया है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!