Headline

G20 सम्मेलन रामनगर में कुमाऊनी संस्कृति का बोलबाला

G20 सम्मेलन रामनगर

20 देशों से पहुंचे हुए प्रतिनिधियों की कुमाऊनी मेहमानवाजी

G20 सम्मेलन रामनगर में 20 देशों से पहुंचे हुए प्रतिनिधियों का जिस गर्मजोशी के साथ स्वागत समारोह हुआ वह उनके लिए हमेशा यादगार रहेगा। पंतनगर एयरपोर्ट से लग्जरी गाड़ियों में उन लोगों को रामनगर ले जाया गया वहां कुमाऊनी परिधान (जैसे पिछौड़ा, घाघरा, गलोबंद, पौंजी, नथ इत्यादि) पहनी हुई लड़कियों ने मेहमानों का कुमाऊनी टोपी पहनाकर स्वागत-सत्कार किया।

G20 सम्मेलन रामनगर में पहुचे डेलगेट्स के लिए यह रहेगा यादगार

बाहर से आए हुए मेहमानों ने मशहूर कुमाऊनी धुन “बेड़ू पाको बारा मासा” में झोड़ा चाचरी की मुद्राओं में नृत्य भी किया, उन्होंने कुमाऊनी परंपरागत नृत्य जिसे छोलिया नृत्य कहा जाता है उसका भी लुत्फ उठाया।

G20 सम्मेलन रामनगर में आए हुए प्रतिनिधियों के लिए रामनगर की यह यात्रा हमेशा यादगार रहेगी क्योंकि उत्तराखंड की संस्कृति, यहां की खूबसूरती और यहां के खानपान को वो कभी नहीं भूल पाएंगे।

पंतनगर एयरपोर्ट से रामनगर तक विकास की गंगा

पिछले कई समय से हम देख ही रहे हैं कि इस G20 सम्मेलन रामनगर के लिए पंतनगर एयरपोर्ट से लेकर रुद्रपुर होते हुए रामनगर तक की सड़क को गड्ढा मुक्त कर एकदम नया बना दिया गया है, आवासीय क्षेत्रों में सड़क किनारे टाइल्स बिछाए गए हैं तथा जंगलों में सड़क किनारे ईट बिछाकर देश को विकासशील से विकशित दिखाने की कोशिश की जा रही है।
यहां सड़क किनारे लगने वाली रेड़ी, झोपड़ी व पुराने घरों को तोड़कर हटा दिया गया था ताकि बाहर से आ रहे प्रतिनिधियों को यहां की हकीकत न पता चल जाए।

मेहमाननवाज़ी का अद्भुत तरीका (G20 सम्मेलन रामनगर)

ये दिखावा तो हम भारतीयों के खून में है क्योंकि जब हम भारतीयों के घर में मेहमान आते हैं तो हम भी उनकी मेहमान नवाजी में कोई कसर नहीं छोड़ते हैं, यहां स्टील की थाली में खाने वाले व्यक्ति भी मेहमान के आने पर चीनी मिट्टी के बने बर्तनों में खाना परोसने लग जाते हैं। चाय के लिए गिलास की जगह कप-प्लेट निकल जाते हैं।
जब हम घर आए एक मेहमानों के लिए इतना कुछ कर सकते हैं तो G20 सम्मेलन में 20 देशों से पहुंचे हुए विशेष मेहमानों के लिए क्यों न करें।

आपको बता दें कि रामनगर में g20 सम्मेलन का यह कार्यक्रम तीन दिनों तक यानी 28 मार्च, 29 मार्च और 30 मार्च तक चलेगा।।

इसे भी पढें –

👉 टीबी सेनेटोरियम भवाली का इतिहास और वर्तमान स्थिति

👉👉 फूलदेई की खूबसूरत यादें

आप हमें यूट्यूब पर भी देख सकते हैं – https://youtube.com/@ThePahad.Com.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!